Main – ओस की एक बूँद


धर्म और तहज़ीब की अदालत है और फिर एक फिसलती जान है। ख़्वाब बंद आँखों में हिचकोले खाते है, और आँख खुलते ही ओझल हो जाते है। मैं ओस की बूँद ही तो हूँ, सुबह घासों की एक परत से चिपका रहता हूँ आँखें खुलती नहीं कि बंद हो जाती है। चारों तरफ़ दीवारें है, फूल है, कँकर है, काँटे है, फिर हरी घास है और उस पर सूरज की किरणो को झाँकता, चमकता, और उसकी आग में जलता मैं|

क्यूँ खुली किताबें पढ़ कर हिस्सा बन जाऊँ किसी का, क्यूँ बँट जाऊँ, जब उसी घास पर सुख जाना है। क्यूँ न हँस लूँ खिलखिलाकर फिर सो जाऊँ गहरी नींद में|

There is a court of religion and culture and then a slipping life. The dream echoes in the closed eyes, and disappears as soon as the eyes open. I am just a drop of dew, I stick to a layer of grass in the morning, eyes do not open that it is closed. There are walls all around, flowers, clumps, thorns, then green grass and as the sun shines, I gaze, I shine, and I burn in its fire.
Why should I become a part of someone by reading open books, why should I be divided when there is happiness on the same grass. Why should I not laugh and then go to sleep in a deep sleep.

One thought on “Main – ओस की एक बूँद

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.